लोग क्या कहेंगे…

बिना सोचे कई बार दिल कुछ बोल जाता था,
मासूमियत का वो एक आइना हुआ करता था |
दोस्तों संग बैठ खूब बातें किया करते,
बिना सर पैर के हवाई डींगे हांका करते |
कुछ कर के दिखाएंगे हम कहा करते,
उस बात पर माँ बाबा बलाएँ लिया करते |

वक़्त गुज़रा, समय बदला,
आज वो मासूमियत वाली बातें
बेवकूफियों वाली हो गयी |
दोस्तों संग दिन तो क्या एक पल भी दूभर हो गए |
हवाई बातें करना तो दूर सोचना भी भूल गए,
लोग क्या कहेंगे यही सोचते रह गए |

आज कुछ करेंगे ऐसा बोलो तो बलाइयां नहीं,
सलाह और गलियान मिलती है,
कुछ करने के पहले- इसका सोच उसका सोच,
हिदायत मिलती है |
कुछ नया करने के हिम्मत तो दूर,
ख्वाब बुनना भी भूल गए,
लोग क्या कहेंगे ये सोचते रह गए |

Advertisements

6 thoughts on “लोग क्या कहेंगे…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s