जज़्बात

कैसे अपने जस्बातों को लफ़्ज़ों में पिरोएं,
आज कुछ सूझ नहीं रहा.
मन के इस उलझन को कैसे सुलझाए कुछ बूझ नहीं रहा |
आज मानो अल्फ़ाज़ों की कमी सी हो गयी है,
मुस्कुराने का बहाना ढून्ढ रही हूँ, पर तन्हाई आज घेरे जा रही है |

Advertisements

4 thoughts on “जज़्बात

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s